नवंबर के अंत तक केंद्र का राजकोषीय घाटा सालाना लक्ष्य के 46.2 फीसदी पर पहुंचा

चालू वित्त वर्ष में नवंबर तक घाटे के आंकड़े पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में काफी बेहतर दिखाई देते हैं, जब यह मुख्य रूप से COVID-19 महामारी से निपटने के लिए खर्च में उछाल के कारण अनुमान के 135.1 प्रतिशत तक बढ़ गया था।

शुक्रवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, नवंबर के अंत में केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा वित्त वर्ष 2021-22 के वार्षिक बजट लक्ष्य का 46.2 प्रतिशत रहा।

चालू वित्त वर्ष में नवंबर तक घाटे के आंकड़े पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में काफी बेहतर दिखाई देते हैं, जब यह मुख्य रूप से COVID-19 महामारी से निपटने के लिए खर्च में उछाल के कारण अनुमान के 135.1 प्रतिशत तक बढ़ गया था।

लेखा महानियंत्रक (CGA) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, वास्तविक रूप से, घाटा नवंबर 2021 के अंत में 15.06 लाख करोड़ रुपये के वार्षिक अनुमान के मुकाबले 6,95,614 करोड़ रुपये था।

चालू वित्त वर्ष के लिए सरकार को घाटा जीडीपी के 6.8 फीसदी या 15,06,812 करोड़ रुपये रहने की उम्मीद है।
आंकड़ों के मुताबिक नवंबर के अंत में सरकार की कुल प्राप्तियां 13.78 लाख करोड़ रुपये या बजट अनुमान (बीई) का 69.8 फीसदी रही। पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में संग्रह 2020-21 के बीई का सिर्फ 37 प्रतिशत था।

कर (शुद्ध) राजस्व अब तक 2021-22 के बीई का 73.5 प्रतिशत था। यह पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में बीई 2020-21 का केवल 42.1 प्रतिशत था।

सीजीए के आंकड़ों में आगे कहा गया है कि नवंबर के अंत में केंद्र सरकार का कुल खर्च 20.74 लाख करोड़ रुपये या इस साल के बजट अनुमान का 59.6 प्रतिशत था।
2020-21 के लिए राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 9.3 प्रतिशत था, जो फरवरी में बजट में संशोधित अनुमानों में अनुमानित 9.5 प्रतिशत से बेहतर था।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस अब टेलीग्राम पर है। हमारे चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें और नवीनतम बिज़ समाचार और अपडेट के साथ अपडेट रहें।

.

Leave a Comment